अहंकार का फल : शिक्षाप्रद कहानी | Short Moral Story In Hindi

फ्रेंड्स, इस पोस्ट में हम अहंकार का फल ‘Short Moral Story In Hindi शेयर कर रहे हैं. यह कहानी अहंकार न करने और विनम्र बने रहने की सीख देती है. पढ़िए पूरी कहानी :

Short Moral Story Hindi
Short Moral Story Hindi | Short Moral Story In Hindi

शिक्षाप्रद कहानियों” का पूरा संकलन यहाँ पढ़ें :

एक समय की बात है. एक गाँव में एक मूर्तिकार रहता था. मूर्तिकला के प्रति अत्यधिक प्रेम के कारण उसने अपना संपूर्ण जीवन मूर्तिकला को समर्पित कर दिया था. परिणामतः वह इतना पारंगत हो गया था कि उसकी बनाई हर मूर्ति जीवंत प्रतीत होती थी.

उसकी बनाई मूर्तियों को देखने वाला उसकी कला की भूरी-भूरी प्रशंसा करता था. उसकी कला के चर्चे उसके गाँव में ही नहीं, बल्कि दूर-दूर के नगर और गाँव में होने लगे थे. ऐसी स्थिति में जैसा सामान्यतः होता है, वैसा ही मूर्तिकार के साथ भी हुआ. उसके भीतर अहंकार की भावना जागृत हो गई. वह स्वयं को सर्वश्रेष्ठ मूर्तिकार मानने लगा.उम्र बढ़ने के साथ जब उसका अंत समय निकट आने लगा, तो वह मृत्यु से बचने की युक्ति सोचने लगा. वह किसी भी तरह स्वयं को यमदूत की दृष्टि से बचाना चाहता था, ताकि वह उसके प्राण न हर सके.

अंततः उससे एक युक्ति सूझ ही गई. उसने अपनी बेमिसाल मूर्तिकला का प्रदर्शन करते हुए १० मूर्तियों का निर्माण किया. वे सभी मूर्तियाँ दिखने में हूबहू उसके समान थीं. निर्मित होने के पश्चात् सभी मूर्तियाँ इतनी जीवंत प्रतीत होने लगी कि मूर्तियों और मूर्तिकार में कोई अंतर ही ना रहा.

मूर्तिकार उन मूर्तियों के मध्य जाकर बैठ गया. युक्तिनुसार यमदूत का उसे इन मूर्तियों के मध्य पहचान पाना असंभव था.

उसकी युक्ति कारगर भी सिद्ध हुई. जब यमदूत उसके प्राण हरने आया, तो ११ एक सरीकी मूर्तियों को देख चकित रह गया. वह उन मूर्तियों में अंतर कर पाने में असमर्थ था. किंतु उसे ज्ञात था कि इन्हीं मूर्तियों के मध्य मूर्तिकार छुपा बैठा है.

मूर्तिकार के प्राण हरने के लिए उसकी पहचान आवश्यक थी. उसके प्राण न हर पाने का अर्थ था – प्रकृति के नियम के विरूद्ध जाना. प्रकृति के नियम के अनुसार मूर्तिकार का अंत समय आ चुका था.

मूर्तिकार की पहचान करने यमदूत हर मूर्ति को तोड़ कर देख सकता था. किंतु वह कला का अपमान नहीं करना चाहता था. इसलिए इस समस्या का उसने एक अलग ही तोड़ निकाला.

उसे मूर्तिकार के अहंकार का बोध था. अतः उसके अहंकार पर चोट करते हुए वह बोला, “वास्तव में सब मूर्तियाँ कलात्मकतता और सौंदर्य का अद्भुत संगम है. किंतु मूर्तिकार एक त्रुटी कर बैठा. यदि वो मेरे सम्मुख होता, तो मैं उसे उस त्रुटी से अवगत करा पाता.”

अपनी मूर्ति में त्रुटी की बात सुन अहंकारी मूर्तिकार का अहंकार जाग गया. उससे रहा नहीं गया और झट से अपने स्थान से उठ बैठा और यमदूत से बोला, “त्रुटि?? असंभव!! मेरी बनाई मूर्तियाँ सर्वदा त्रुटिहीन होती हैं.”

यमदूत की युक्ति काम कर चुकी थी. उसने मूर्तिकार को पकड़ लिया और बोला, “बेजान मूर्तियाँ बोला नहीं करती और तुम बोल पड़े. यही तुम्हारी त्रुटी है कि अपने अहंकार पर तुम्हारा कोई बस नहीं.”

यमदूत मूर्तिकार के प्राण हर यमलोक वापस चला गया.

सीख (Moral of the story)

अहंकार विनाश का कारण है. इसलिए अहंकार को कभी भी ख़ुद पर हावी ना होने दें.


Friends, आपको ‘Short Moral Story Hindi‘ कैसी लगी? आप अपने comments के द्वारा हमें अवश्य बतायें. ये Hindi Story पसंद आने पर Like और Share करें. ऐसी ही अन्य short moral story hindi पढ़ने के लिए हमें Subscribe कर लें. Thanks.

अहंकार का फल : शिक्षाप्रद कहानी | Short Moral Story In Hindi,शिक्षाप्रद कहानी : ऐसे चूर हुआ विद्वत्ता का घमंड,शिक्षाप्रद कहानी : संसार के दो मेहमान,2 Best Moral Stories in Hindi नैतिक कहानियां 2023,Hindi Me Kahani – आइये पढ़ते हैं, बेहतरीन कहानियाँ हिंदी में,सबसे बेहतरीन 25+ महापुरुषों की शिक्षाप्रद कहानियां | Best Prerak,

Leave a Comment

Kareem Abdul-Jabbar Makes Decision On Lakers’ Home Games Amid LeBron James’ Pursuit Of Scoring Record Ravens Star Has Honest Admission About Lamar Jackson’s Contract Situation 1 NFL Team Was ‘Counting On’ Tom Brady Playing Next Season NFL World Reacts To Gisele Bundchen’s Racy Swimsuit Photo Look: 1 NFL Fan Base Is Furious With Sean Payton